Friday, June 25, 2010

कभी कभी कुछ

कभी नंगे पाँव
गीली घास पर चल लेती हूँ
कभी बालों को बिखेर
भरी बरसात में टहल लेती हूँ
कभी चाँदनी रात में
छत पे बैठे कुछ गा लेती हूँ
कभी राह चलते
अनजाने बच्चों में बाहें उलझा लेती हूँ
कभी बाथरूम के अन्दर
बिलख-बिलख कर रो लेती हूँ
कभी अपनी माँ के साथ
चिपककर सो लेती हूँ
कभी किसी किताब को
चंद घंटों में पढ़ लेती हूँ
कभी कोरे कागज़ पर
सपनों का जहां गढ़ लेती हूँ
कभी दोस्तों के साथ
ठहाकी हंसी हंस लेती हूँ
कभी बहते घावों पर
बेजान पट्टी कस लेती हूँ

पर चाहे कुछ भी कर लूं मैं
तू याद हर वक़्त आता है
बहानों की लगाम छुडाकर दिल
तेरे पीछे ही जाता है

Wednesday, June 23, 2010

वो तुम थे क्या?

निकली थी धूप में
पर कुछ दिखाई न दिया
बचपना कुछ ऐसा था
नादानी कुछ इतनी थी
की खुद से दूर चलती गयी
अनजानी राहों में घुलती गयी
मन ने टोका तो बहुत
रूह ने रोका तो बहुत
पर कुछ सुनाई न दिया

चकाचौंध से धुंधले थे नयन
झूठे आसरों से भ्रमित था मन
फिर मौसम एकाएक बदला
खुल गए ज़हन के सारे द्वार
आज़ाद हुई आत्मा, फूटा ज्वार

वो तुम थे , या था कोई इश्वर
जो सौंप गया मुझे मेरा अस्तित्व
किया मेरी प्रथिभओं को प्रखर

जब छोटी थी, सोचा था लिखूंगी
प्यार में भी पडूँगी, एक दिन खिलूंगी
बड़ी होकर, मैं यूं नाचूंगी
पोथियाँ, ग्रन्थ, सब दे बाचूंगी
फिर पता नहीं कब,
टूटा समय पर बस
शब्दों को लीं, बड़ियों ने कस

फिर बातों बातों में, तुम्हें भी सुना
खुली आँखों से, एक सपना बुना
वो तुम थे, या था मेरा आत्मविश्वास
बो गया जो बीज प्रेम के
फिर जिलाई मुझमें, जीने की आस

वो तुम थे या थी इक पागल हवा
इलाज कर दे हर मर्ज़ का, इक ऐसी दवा
वो तुम थे या था कोई गुरु
चरणों में जिसके सिमटे जहां, और वहीँ से हो शुरू
वो तुम थे या था जीवन का प्यार
हर आगामी संघर्ष के लिए, जो कर गया मुझे तैयार
वो तुम थे या था मेरा ही अहम्
वो तुम थे या था मेरा ही करम
वो तुम थे या था मेरा ही धरम

Tuesday, June 22, 2010

pick up a fight

So easy it is
to sit back and watch
than sweat it out
& climb up a notch
life is a thrill
don’t take it too light
search for a reason
and pick up a fight

there always exist
your hidden calling
where you tread & toil
and don’t mind falling
the road could be tough
but if the goal is in sight
get charging again
and pick up a fight

naysayers are galore
to pull you down
to snub your ideas
and see you frown
trust your instincts
do what’s your right
before they get to you
pick up a fight

for every battle won
life has a price
not all wishes are granted
nor is pleasant every surprise
but when darkness looms large
and haunting is the night
wait till it’s dawn
and pick up a fight.

Tuesday, June 15, 2010

I'm all yours

Do not hesitate, come to me
when you’re tired after a full day’s chores
relax in my arms, sleep in my lap
stay wherever, I’m all yours

When you need support, I’ll cheer for you
when you need love, sink in my pores
play on my lips, eat from my cheeks
stay wherever, I’m all yours

I’ll take your hand, walk with you
when the going is tough, rough and coarse
drink from my palms, crawl under my skin
stay wherever, I’m all yours

Fight with you, then yield to you
giving no threat, using no force
live in my dream, breathe in my hair
stay wherever, I’m all yours

my every hope, my every prayer
comes from you, you’re my source
from head to toe – nothing is mine
stay wherever, I’m all yours

My rain girl

I grip the handles of my seat
Shivers my skin, tightens my chest
The sound of rain and smell of earth
Creates in me, a sweet unrest

A drop and two
And gently it begins
Your laughter your gait
Memories flood within

You’d look back and smile
And pull up your skirt
Barefoot on the grass
Giggly and pert

Everytime it thundered
You’d cry out aloud
And throw open your arms
Embracing the cloud

Your trembling wet lips
Would kiss the flowers
breathe in its fragrance
all drenched in the shower

You’d pull me in rain
And dance with joy
And awaken my child in me
Like a naughty little toy

Among everything you brought
Into my day
Besides love and warmth
Was rain and play

Like a child you filled
My life with bliss
Passionate was your love
Intoxicating you kiss

I seldom doubted myself
Before you believed in me
Appreciation, beauty and love
You made my eyes see

Today it rained again
And my heart longed for you
To touch your wet fingers
And see your smile anew

Years have passed by
And im ageing, that’s a truth
But your love has sown in me
An invincible youth.

मर कर जी जाने दे

प्यार से मेरा आँचल, आज भर जाने दे

अपनी बाहों में समा ले, और मर जाने दे...