Wednesday, March 13, 2013

तुम




मेरी साँसों में जो दहक है
उसमें तुम्हारी महक है

संगीत में जो धनक है
क्या वो तुम्हारी ही आवाज़ की खनक है


मेरी आसुओं में जो असर है
तुझसे दूरी का कसर है

मेरी चाल में जो रवानी है
तुम्हारी पल-पल की कहानी है

मेरी खुली आज़ाद हंसी
में हैं तेरी ख्वाहिशें बसीं

मैं जो भी जैसी भी बनी हूँ
तुम्हारी मिट्टी में ही सनी हूँ

और तुम कहते हो मैं तुम्हें याद नहीं करती?

3 comments:

  1. this just SEEMS like an 'ode', an ode to love basically..
    like i told you earlier itself.. :)
    it brings out an emotion which is hard to be put into words..

    ReplyDelete
  2. Main jo bhi jaisi bhi bani hoon,
    Tumhari mitti main sani hoon.

    Brilliant lines.The imagery is wowsome!
    Write lots more - we all deserve your words.

    Ramen

    ReplyDelete
  3. "Do you love me ?", he asked.
    "Do you need an answer?", she said.
    "I guess not", he said.
    "I guess so", she said.

    ReplyDelete