Friday, December 26, 2014

Your Children My Children


You don’t hold their spirits
for they will soar and fly
over the muck of loathing
up, above, ever so high

the petals you thought crushed
under your pitiable heels
leave behind their fragrance
the world inhales, deep within feels

I know you gloat over my tears
if you could see, I would show
how in the quest of endless beauty
even the evil helps us grow

oh you poor misguided soul
in despicable depths of desolation
love-deprived, care-lorn,
mistaking fear as adulation

I pray no harm for you, from you
released from the shackles of hate
when you meet my winged angels
you will crumble to reverse your fate

blood of babies, men and women
bask in it at the peril of your own
slaughter is a sin often repeated
to irrigate the seeds you had sown

there are those, your muted friends
comparing one grief with another
a heart that small is bound to tear
when his children are pitted against his brother

on you go, spread what you may
low can’t ever conquer the great
time will still sway to the good
the evil can have but a date.

1 comment:

  1. रोज़ नई नई कहानियाँ पढ़ने को मिलती हैं। आज किसी बच्ची का वक्तव्य पड़ रहा था कि शरीर पर विस्फोटकों का पुलिंदा बाँधकर उससे कहा गया कि इसे भीड़ भरी जगह में जाकर बटन दबा देना

    बच्ची ने कातरता से कहा कि ऐसा करने से तो मैं मर जाऊँगी

    जवाब आया..तभी तो तुम्हें जन्नत नसीब होगी

    डरा धमकाकर उसे भेजा तो गया पर उसने तो वो बटन नहीं दबाया पर साथ गए लोगों ने वहीं अपने को उड़ा लिया।

    बच्ची ने अपने आपको बचा लिया क्यूँकि उसने धर्म की आड़ में कही बातों को अपनी कसौटी से तौला। पर इन वहशियों ने तो अपने दिमाग से सोचना बंद कर दिया है। संवेदनहीन बनकर अपने मशीनी जिस्म का ट्रिगर दूसरे को थमा दिया है।

    सही कहा तुमने ये बच्चे हमारे या उनके ना होकर मानवता की संतान है। उनकी खुशी हम सब की खुशी है और उनका दर्द भी साझा है। क्या कहें.. ऐसी बर्बरता को देख सुन कर इसी मानव जाति का हिस्सा बनना लज्जित करता है।

    ReplyDelete