Friday, October 8, 2010

come to me


Like a feather on a wave
i float by my days
everything is a blur
every emotion a haze


please break the silence
let not the emptiness persist
hurt me, better still
tell me i still exist

3 comments:

  1. सुदर्शन फाकिर की पंक्ति याद आई :
    किसी रंजिश को हवा दो कि मैं जिंदा हूँ अभी
    मुझको एहसास दिला दो कि मैं जिंदा हूँ अभी

    शायर का नाम न सही, पर एक यह भी पंक्ति याद आई:
    जिंदा हूँ मैं अभी, एहसास तो दिलाओ मुझे
    अगर मुस्कुराती नहीं तो, कोई रुलाओ मुझे

    ... बधाई !

    ReplyDelete
  2. Let thousand flowers bloom and
    million lights glow
    Let your dream fly past the blue sky,

    Let your journey start from Silence to Mozart!

    ReplyDelete