Thursday, April 15, 2010

दिल से हारी

पाओगे भी न मुझको पाकर

न कर पाऊँगी तुमसे प्यार

मेरी आत्मा बसती है मुझसे बाहर

मैं खुद हूँ अपने दिल का शिकार

No comments:

Post a Comment